मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा हमने सभी का साथ दिया इसलि?

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि हमने सभी का साथ दिया है और विकास किया है। मुख्यमंत्री विजयपुर में लाडली बहना योजना के तहत सम्मेलन में शिरकत कर कर रहे थे। उनके साथ केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, ज्योतिरादित्य सिंधिया व भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव तरुण चुघ मौजूद थे।इसलिए संकल्प लें कि जो हमारा साथ दे उसका साथ दें। इसलिए भाजपा का साथ दें। इसलिए भाजपा का साथ देने का संकल्प लें।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि विपरीत मौसम के बाद भी आपके बीच में हूं। भारी बारिश के बीच भी आप लोग प्रेम की बारिश कर रहे हैं। पहले लाडली लक्ष्मी योजना बनाई। दो बेटियों तक लाडली लक्ष्मी होगी।

बहने आगे बढ़ेंगी, गांव गांव में लाडली सेना बनेगी। अलग अलग रहेंगे तो दुखी रहेंगे। इसलिए एक रहें और आगे बढ़ें। कभी कांग्रेस ने श्योपुर में कोई डैम नहीं बनाया। चाहे मूंजरी हो या चेंटीखेड़ा, भाजपा ने ही डैम बनाया है। इसके साथ मेडीकल कालेज हो, भाजपा ने ही किए हैं। श्योपुर विजयपुर की जनता की स्थति केवल भाजपा सरकार ने ही बदली है। श्योपुर व विजयपुर विकास पथ पर चल निकला है। सीएम ने कहा कि शिक्षा के लिए प्रयास कर रही है। बच्चे पढें और आगे बढ़ें। सीखो और कमाओ योजना भी आ रही है। रोजगार के लिए 1 लाख नौकरियों के लिए भर्ती हो रही है। 12वीं पास को सीखो औ कमाओ योजना शुरू की जाएगी। भाजपा सरकार जिंदगी बदलने के लिए है।

शिवराज सिंह ने कराए विकास कार्य

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि राष्ट्रीय महामंत्री तरुण चुघ का भी स्वागत करें। मुख्यमंत्री के सामने मांग रखी तो उन्हाेंने मांग मानी व बजट जुटाया और स्वीकृति दी। दस साल के बाद वह दिन आया है विजयपुर व सबलगढ़ का क्षेत्र इस योजना से प्रभावित होंगे। शिवराज सिंह को लगना चाहिए कि विजयपुर के आम आदमी की मांग थी।

मुख्यमंत्री हमेशा सौगात लाते हैं
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि नैरोगेज को ब्राड गैज में परिवर्तित कर आवागमन की सुविधा बढ़ाएंगे। भाजपा सरकार ने मेडीकल कालेज श्योपुर को दिलवाया था। पिछली बार शिवराज ने तीन तीन योजनाएं दी है। एक बार फिर शिवराज आए हैं तो खाली हाथ नहीं आए हैं और योजनाए लाए हैं। ये योजना क्षेत्र के 55 गांवों की जमीन को सिंचित करेगा। मुख्यमंत्री आते हैं तो सौगातें लाते हैं। प्रदेश में प्रगति व विकास चाहिए तो केवल पुरुष नहीं, महिलाओं को भी प्रथम पंक्ति में लाना होगा। मुख्यमंत्री भोपाल में कम बैठते हैं, आमजन के बीच अधिक रहते हैं।

बारिश ने डाला व्यवधान

मुख्यमंत्री की सभा में बारिश ने व्यवधान डाला। सभा स्थल पर लोगों को पानी से बचने के लिए अपने सिर पर कुर्सियों को उलटा करके रखना पड़ा। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम शुरू होने से पहले 1 घंटे पहले से बारिश हो रही थी। साथ ही मुख्यमंत्री के हेलीकाप्टर के उतरने में भी मुश्किल हो रही थी।