"फूलों का तारों का सबका कहना है, एक हजारों में मेरी बहना है"

"फूलों का तारों का सबका कहना है, एक हजारों में मेरी बहना है"

आज राजधानी के जम्बूरी मैदान, भेल में विशेष लाड़ली बहना सम्मेलन भाई-बहन के पावन रिश्ते के महत्व को रेखांकित करने वाला मंच बन गया। विभिन्न गायक-गायिकाओं ने अनेक राखी गीत सुनाए। सम्मेलन की शुरूआत “भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना” के साथ हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संबोधन के प्रारंभ में “यह राखी बंधन है ऐसा” गाकर सुनाया। इसके पश्चात उन्होंने बहनों को उस गीत के बोल सुनाए जिसमें भाई अपनी बहन की आंखों में आंसू नहीं देख सकता। “देख सकता हूँ मैं, कुछ भी होते हुए, नहीं मैं नहीं देख सकता, तुझे रोते हुए” सुनकर सम्मेलन में मौजूद बहनें भावुक हो गईं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने तीसरा गीत भी बहुत भावपूर्ण ढंग से सुनाया। ” फूलों का तारों का सबका कहना है, एक हजारों में मेरी बहना है”। इसके अलावा गायक -गायिकाओं द्वारा “बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है, प्यार के दो तार से संसार बांधा है, रेशम की डोरी से संसार बांधा है” की भी पेशकश हुई। इन गीतों से सम्पूर्ण वातावरण पारिवारिक हो गया।

महिला जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति से सजा मंच

लाड़ली बहना सम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री चौहान के साथ महिला जनप्रतिनिधि मंच पर उपस्थित थीं। राज्यसभा सदस्य सुश्री कविता पाटीदार, भोपाल की महापौर श्रीमती मालती राय, भोपाल जिले के गोविंदपुरा क्षेत्र की विधायक श्रीमती कृष्णा गौर, विदिशा जिले के शमशाबाद क्षेत्र की विधायक सुश्री राजश्री सिंह,भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की अध्यक्ष श्रीमती माया नारोलिया।

कार्यक्रम के अन्य महत्वपूर्ण पहलू

कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बहनों के चरण धोए और कन्या पूजन किया।

बहनों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को विशाल राखी भेंट की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लाड़ली बहना योजना का कैलेंडर का विमोचन किया।

महिला सशक्तिकरण पर केंद्रित लघु फिल्म प्रदर्शित की गई।

थ्री डी प्रस्तुतिकरण के माध्यम से महिला कल्याण योजनाओं को उपस्थित बहनों ने मंत्रमुग्ध होकर देखा।